• कदम सोच के रखें: दूरास्त् पर्वतानि रम्यते

    Contributor(s):
    Pramod Ranjan (see profile)
    Date:
    2021
    Group(s):
    Book Reviewing, Literary Journalism
    Subject(s):
    Hindi literature, Reportage literature, Hindi, Indian press, Journalism, Journalists
    Item Type:
    Book review
    Tag(s):
    Hindi literature--History and criticism, Book reviewing, Literature and society, Literary criticism, Ranjan, Pramod, 1980-
    Permanent URL:
    https://doi.org/10.17613/4xyp-5474
    Abstract:
    प्रमोद रंजन की चर्चित पुस्तक "शिमला डायरी" एक सुन्दर साज-सज्जा वाली पुस्तक है। सौम्य परिवेश की पृष्टभूमि, हरियाली, फूलों और किन्हीं ऐतिहासिक इमारतों, जन-जीवन के खुलते पन्नों की एक सुन्दर किताब के साथ तीन उपशीर्षकों 'आलोचना, 'कहानी-कविताएं' व 'मौखिक इतिहास' के ऊपर "शिमला डायरी" पहली नज़र में ही पाठकों को आकर्षित करती है। यह डायरी न केवल अपनी कठिनाइओं से विरेचन की राहें तलाशती है, अपितु पहाड़ के जन-जीवन की दिन-दैन्य की मुश्किलों, पहाड़ी संस्कारों, रीति-रिवाज़ों, परिवर्तनांकांक्षी नयी पीढ़ी की अभिलाषाओं व राजनैतिक-सामाजिक प्रभावों के विभिन्न आयामी संगठनों-नारों का भी विशलेषण करती चलती है (इधर से ही काफ़िला-ए-इंकलाब गुज़रेगा -पृ.सं.-140) एवं मौखिक-इतिहास-खण्ड-5 में विभिन्न साक्षात्कार से पहाड़ी संस्कृति के विविध पहलुओं रस्मो-रियाज़ों, वैवाहिक प्रथाओं को जानने के इच्छुक पाठकों के लिए "शिमला डायरी" विशेष रूप से पठनीय पुस्तक है; जिसमें हिमाचल के दूरवर्ती क्षेत्रों में जन-जीवन की आवश्यकताओं, कठिनाइयों, रिवायतों, मंदिरों, मेलों व धार्मिक उत्सवों-महोत्सवों के साथ ही वहां के नारी-जीवन की समस्याओं का व्यापक ज्ञान एक जिज्ञासु की पारखी दृष्टि से किया गया है। यही नहीं लेखक अपने पैतृक-प्रदेश बिहार अथवा अन्य मैदानी इलाकों के जन-जीवन में आने वाली कठिनाइयों से भी पाठकों का साक्षात्कार इस डायरी के माध्यम से करवाना नहीं भूलता। मूलतः इन सब के साथ लेखक का गूढ़ नाता उनके लेखकीय सन्दर्भों व पत्रकारिता की दृष्टि से ही इस पुस्तक में उद्घाटित हुआ है।
    Notes:
    यह प्रमोद रंजन की पुस्तक 'शिमला डायरी' की समीक्षा है। हिमाचल प्रदेश पर केंद्रित संस्मरणों की यह पुस्तक 2019 में प्रकाशित हुई थी।
    Metadata:
    Published as:
    Online publication    
    Status:
    Published
    Last Updated:
    3 months ago
    License:
    Attribution
    Share this:

    Downloads

    Item Name: pdf पुस्तक-समीक्षा-_-कदम-सोच-के-रखें-_दूरास्त्-पर्वतानि-रम्यते_-डॉ.-प्रेम-लता-चसवाल-प्रेमपुष्प.pdf
      Download View in browser
    Activity: Downloads: 11