• बजट 2021: मौत, अकाल की आहट और आर्थिक असमानता पर चुप्पी क्यों?

    Author(s):
    Pramod Ranjan (see profile)
    Date:
    2022
    Group(s):
    Indian Economy, Medical Humanities, Political Philosophy & Theory, Sociology
    Subject(s):
    Budget, World Food Programme, World Economic Forum, Famines--Political aspects, Children and death, COVID-19 (Disease), Pandemics, Dalits, Equality
    Item Type:
    Article
    Tag(s):
    Indian Politics, OBC, Adivasi, Inequality Virus, Oxfam report, indian billionaires
    Permanent URL:
    https://doi.org/10.17613/tp8c-y025
    Abstract:
    भारत में क्या हालत हो चुकी है, इसका अनुमान दिसंबर, 2020 में हुए एक सर्वेक्षण से लगता है। इस सर्वेक्षण के अनुसार भारत की आधी से अधिक आबादी को कोरोना-काल में पहले की तुलना में कम भोजन मिल रहा है। इनमें ज़्यादातर दलित और आदिवासी हैं। लेकिन इन सूचनाओं से भी अधिक भयावह यह है कि भारत का बौद्धिक वर्ग, ग़रीबों के सर पर मँडराते मौत के इस साये से प्राय: निरपेक्ष है। भारतीय मीडिया, सोशल मीडिया व शहरी पब्लिक स्फीयर्स में ग़रीबों की सड़ती हुई लाशों की बदबू नहीं पहुँच रही है। संभवत: सदियों से मौजूद सामाजिक असमानता की हमारी विरासत ने भूमंडलीकरण के दौर में आर्थिक असमानता और सामाजिक-अलगाव की खाइयों को इतना चौड़ा कर दिया है कि हम एक-दूसरे से पूरी तरह अलग-थलग व बेज़ार बने रह सकते हैं।
    Notes:
    The original article was written in Hindi titled 'मौत, अकाल की आहट और आर्थिक असमानता पर चुप्पी क्यों? (बजट : 2021 पर एक टिप्पणी)', which was later translated into English and German by various translators. Here it is in English : https://doi.org/10.17613/ypy1-w398 (World Socialist Party of the United States) Here it is in German: https://www.rubikon.news/artikel/das-grosse-sterben-2 (Rubikon News/)
    Metadata:
    Published as:
    Magazine section    
    Status:
    Published
    Last Updated:
    1 year ago
    License:
    Attribution-NonCommercial

    Downloads

    Item Name: pdf लेख-_-बजट-2021-_-मौत-और-अकाल-की-आहट-पर-चुप्पी.pdf
      Download View in browser
    Activity: Downloads: 35